परिवहन- सड़क, रेल, जल तथा वायु परिवहन | Transport System Of India | Indian Geography

Share With Friends

परिवहन- सड़क, रेल, जल तथा वायु परिवहन | Transport System Of India

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको भारत में परिवहन (Bharat Me Parivahan) के सभी माध्यमों के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं | Transport System Of India टॉपिक बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है, तो आप पूरा ध्यान से जरूर से पढ़िए तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए |
Bharat Me Parivahan
Bharat Me Parivahan

सड़क परिवहन | Transport System Of India

भारत का 85% यात्री परिवहन एवं 70% माल का परिवहन सड़कों द्वारा किया जाता है | इस दृष्टि से भारत का सड़क जाल विश्व में सबसे बड़े सड़क जालों में से एक हैं, जिसकी कुल लंबाई 48 लाख किलोमीटर है |
राष्ट्रीय राजमार्ग की लंबाई देश की कुल सड़कों की लंबाई का मात्र 2% है, किंतु यह सड़क यातायात के 40% भाग का भार वहन करती हैं | राष्ट्रीय राजमार्ग देश के हैं, से हैं जिनके निर्माण एवं मरम्मत की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की होती हैं | राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण, विकास एवं प्रबंधन “ भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण” द्वारा किया जाता है |

भारत के प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग (Imp. National Highways)

  • भारत का सबसे लंबा राष्ट्रीय राजमार्ग 44 हैं | यह राजमार्ग 3745 किलोमीटर लंबा है | यह श्रीनगर को कन्याकुमारी से जोड़ता है | राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 7, वाराणसी को कन्याकुमारी से जोड़ता है | राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 1 और 2 को सम्मिलित रूप से ग्रांड ट्रंक रोड कहां जाता है |
  • विश्व की सबसे ऊंची सड़क मनाली-लेह राजमार्ग हैं | राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 1 ‘A’में जवाहर सुरंग स्थित है | यह जम्मू को श्रीनगर से जोड़ने वाला एकमात्र सड़क मार्ग है | 
  • भारत का सबसे छोटा राष्ट्रीय राजमार्ग 47‘A’ हैं, जिसकी लंबाई मात्र 6 किलोमीटर हैं | यह राष्ट्रीय राजमार्ग केरल में वेलिंगटन द्वीप में स्थित है | 
  • राष्ट्रीय राजमार्ग 31 एकमात्र राष्ट्रीय राजमार्ग हैं, जो उत्तर-पूर्वी भारतीय राज्यों को शेष भारत से जोड़ता है | 
  • स्वर्णिम चतुर्भुज योजना के अंतर्गत 5846 किलोमीटर लंबे राष्ट्रीय राजमार्ग द्वारा चार बड़े महानगरों- दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता को जोड़ने का प्रयास किया गया है | 
  • राष्ट्रीय राजमार्ग विकास कार्यक्रम के अंतर्गत बनने वाली उत्तर-दक्षिण गलियारा से श्रीनगर को कन्याकुमारी से तथा पूर्व-पश्चिम गलियारा से सिलचर( असम) को पोरबंदर( गुजरात) से जोड़ा जाएगा | जिसकी कुल लंबाई 7,656 किलोमीटर है |
भारत में सड़कों की कुल लंबाई की दृष्टि से महाराष्ट्र( 10.7%) का प्रथम स्थान है, उत्तरप्रदेश( 10.01%), ओड़िशा( 9.54%),आंध्र प्रदेश( 7.9%),तमिलनाडु( 6.69%) | पक्की सड़कों के घनत्व की दृष्टि से गोवा सर्वोच्च स्थान पर हैं | जबकि कच्ची सड़कों के घनत्व में उड़ीसा सर्वोच्च स्थान पर हैं | प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत 500 या से अधिक की आबादी वाले सभी गांवों को पक्की सड़कों से जोड़ने की योजना है | सागरमाला परियोजना के तहत देश के 12 बड़े बंदरगाहों को जोड़ने वाली सड़कों को चार लेन बनाने की योजना है | राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 15 राजस्थान के थार मरुस्थल से गुजरने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग हैं | सर्वाधिक सड़क घनत्व केरल में हैं, द्वितीय स्थान गोवा का है |
 

रेल परिवहन | Bharat Me Parivahan

भारत में पहली रेलगाड़ी अप्रैल, 1853 में मुंबई से थाने के बीच चलाई गई, जिसकी दूरी 34 किलोमीटर थी | बिजली से चलने वाली प्रथम रेलगाड़ी डेक्कन क्वीन थी, जो मुंबई एवं पुणे के मध्य 1925 में चली थी | जबकि कोयले से चलने वाला देश का सबसे पुराना भाप इंजन ‘फेयरी क्वीन’ था | भारतीय रेल एशिया की दूसरी सबसे बड़ी तथा विश्व की चौथी सबसे बड़ी रेल व्यवस्था हैं | पहला स्थान अमेरिका का है | भारतीय रेल प्रशासन एवं प्रबंधन की जिम्मेदारी रेलवे बोर्ड पर हैं | भारतीय रेलवे को 18 जोन में बांटा गया है | प्रत्येक जोन का प्रधान महाप्रबंधक होता है | भारतीय रेलवे बोर्ड की स्थापना मार्च, 1905 में की गई थी | रेलवे का 18 जोन दक्षिणी तट रेलवे (2019) में बना | देश में रेल मार्गों की सर्वाधिक लंबाई उत्तर जोन (11040 किलोमीटर) के अंतर्गत आती हैं |
 

भारतीय रेलवे जोन के मुख्यालय (Headquarters Of Railway Zones)

वर्तमान में भारत में 18 रेलवे जोन है:-

 

जोन

 

मुख्यालय

उत्तर रेलवे

नई दिल्ली

पश्चिम रेलवे

चर्चगेट, मुंबई

दक्षिण-मध्य रेलवे

सिकंदराबाद

दक्षिण- पूर्व रेलवे

कोलकाता

मध्य रेलवे  

मुंबई सेंट्रल

दक्षिण रेलवे

चेन्नई

उत्तर-पूर्वी रेलवे

गोरखपुर(U.P.)

पूर्वी रेलवे

कोलकाता

उत्तर-पूर्वी सीमांत रेलवे

मालेगांव( गुवाहाटी)

पूर्वी-मध्य रेलवे

हाजीपुर( बिहार)

उत्तर-पश्चिम रेलवे

जयपुर

पूर्वी  तटवर्ती रेलवे

भुवनेश्वर

उत्तर-मध्य रेलवे

प्रयागराज

दक्षिण-पश्चिम रेलवे

हुबली( कर्नाटक)

पश्चिम-मध्य रेलवे

जबलपुर( मध्य प्रदेश)

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे

बिलासपुर( छत्तीसगढ़)

कोलकाता मेट्रो

कोलकाता

दक्षिणी तट रेलवे

विशाखापत्तनम

भारतीय रेल का सर्वाधिक लंबा रेलमार्ग डिब्रुगढ़ से कन्याकुमारी (4278किलोमीटर) है | इसे विवेक एक्सप्रेस 82 घंटे 40 मिनट में पूरा करती हैं |
भारतीय रेल में 3  गेज रहे हैं-
  1. ब्रॉडगेज (1.676 मीटर)
  2. मीटर गेज (1 मीटर)
  3. नैरो गेज (0.672 मीटर)

गेज का मतलब है रेल की दो पटरियों के बीच की दूरी है |

 कोकण रेलवे (Konkan Railway)

कोंकण रेलवे परियोजना के तहत रोहा (महाराष्ट्र) से मंगलोर (कर्नाटक) के बीच 741 किलोमीटर लंबे रेलमार्ग का निर्माण किया गया है | इस रेलमार्ग में 92 सुरंगे, 179 बड़े पुल एवं 56 रेलवे स्टेशन है | कोकण रेल महाराष्ट्र, गोवा एवं कर्नाटक राज्यों से होकर गुजरती हैं | इसका निर्माण वर्ष 1998 में हुआ था | Transport System Of India

बुलेट ट्रेन (Bullet Train)

अहमदाबाद से मुंबई के बीच में बुलेट ट्रेन परियोजना का भी कार्य चल रहा है | जापान के सहायता से बन रही बुलेट ट्रेन भारत की सबसे तेज ट्रेन होगी | इसकी स्पीड लगभग 600 किलोमीटर प्रति घंटा होगी | लेकिन अभी तक यह तय नहीं है कि बुलेट ट्रेन कब शुरू होगी |

भारत में मेट्रो रेल सेवा (Metro Lists Of India)

City

Metro

Start

कोलकाता

कोलकाता मेट्रो

24 अक्टूबर 1984

चेन्नई

चेन्नई(MRTS)

19 अक्टूबर 1997

दिल्ली

दिल्ली मेट्रो(DMRC)

24 दिसंबर 2002

बेंगलुरु

नम्मा मेट्रो

20 अक्टूबर 2011

गुरुग्राम

रैपिड मेट्रो

14 नवंबर 2013

मुंबई

मुंबई मेट्रो

8 जून 2014

जयपुर

जयपुर मेट्रो

3 जून 2015

कोच्चि

कोच्चि मेट्रो

17 जून 2017

लखनऊ

लखनऊ मेट्रो

6 सितंबर 2017

हैदराबाद

हैदराबाद मेट्रो

28 नवंबर 2017

नागपुर

नागपुर मेट्रो

8 मार्च 2019

 
इनके अलावा भारत के दूसरे शहरों में भी मेट्रो सेवा प्रदान करने के लिए परियोजनाएं चलाई जा रही हैं तो हमें उम्मीद है कि जल्द ही भारत के दूसरे शहरों में भी मेट्रो सेवा प्रारंभ हो जाएगी |
 

जल परिवहन | Transport System Of India

देश के जलमार्ग को दो भागों में बांटा गया है- आंतरिक( अंतर्देशीय जल परिवहन) एवं महासागरीय( समुद्री जल परिवहन) | अंतर्देशीय जलमार्गओं के विकास के लिए वर्ष 1986 में आंतरिक जल परिवहन प्राधिकरण का गठन किया गया |  वर्तमान में देश में 111 राष्‍ट्रीय जलमार्ग हैं। 
बराक नदी के जल मार्ग को लखपुर( असम) से भागा( असम) अगला राष्ट्रीय जलमार्ग किया गया है, जो 121 किलोमीटर लंबा है | 

भारत के राष्ट्रीय जलमार्ग (National Waterways of India):-

जलमार्ग

स्थान

लंबाई(KM)

राष्ट्रीय जलमार्ग-1

प्रयागराज से हल्दिया( 1986)

1620

राष्ट्रीय जलमार्ग-2

सादिया से धुबरीपट्टी( 1988)

891

राष्ट्रीय जलमार्ग-3

कोल्लम से कोट्टापुरम( 1991)

205

राष्ट्रीय जलमार्ग-4

काकीनाडा और पुडुचेरी कनाल और कालूवैली टैंक पर बना है

[( गोदावरी व कृष्णा नदी) 2008]

1095

राष्ट्रीय जलमार्ग-5

ब्राह्मणी नदी के तालचर धमारा कनाल पूर्वी तटीय कनाल के गोयनखली चरबतिया, महानदी डेल्टा के साथ मतई नदी पर फैले चरबतिया धमारा मार्ग को अपने अंदर

 समेटता है |

623

राष्ट्रीय जलमार्ग-6

लखीपुर से भागा

121

 

  • भारत में समुद्री जलमार्गों को 12 प्रमुख एवं 185 अन्य बंदरगाहों द्वारा संरचनात्मक आधार प्रदान किया गया है | सबसे बड़ा बंदरगाह मुंबई है | इसे भारत का प्रवेश द्वार भी कहते हैं |
  • देश का सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक बंदरगाह विशाखापट्टनम है | यह भारत का सबसे गहरा बंदरगाह हैं | यह डॉल्फिन नोज चट्टान के पीछे स्थित है |
  • दाहेज(गुजरात) देश का प्रथम बंदरगाह है, जो रसायनों के निपटान हेतु स्थापित किया गया है, इसलिए इसे रसायन बंदरगाह नाम दिया गया है |
  • गुजरात स्थित कांडला एक ज्वारीय बंदरगाह हैं | यह मुक्त व्यापार क्षेत्र वाला बंदरगाह है |
  • चेन्नई एक कृत्रिम बंदरगाह है | यह एक प्राचीन बंदरगाह भी हैं |
  • न्यू मंगलौर बंदरगाह को कुदरेमुख से लौह अयस्क के निर्यात के लिए विकसित किया गया है |
  • मार्मागांओ बंदरगाह जुआरी नदी पर स्थित है |
 

भारत के प्रमुख बंदरगाह

नाम

नदी/ समुद्र

राज्य

कांडला

कच्छ की खाड़ी

गुजरात

मुंबई

अरब सागर

महाराष्ट्र

जवाहरलाल नेहरू/Nhawa sheva

अरब सागर

महाराष्ट्र

मार्मागोवा

अरब सागर

गोवा

न्यू मंगलोर

अरब सागर

कर्नाटक

कोच्चि

अरब सागर

केरल

न्यू तूतीकोरिन

बंगाल की खाड़ी

तमिलनाडु

चेन्नई

बंगाल की खाड़ी

तमिलनाडु

एन्नोर

बंगाल की खाड़ी

तमिलनाडु

विशाखापट्टनम

बंगाल की खाड़ी

आंध्र प्रदेश

पारादीप

बंगाल की खाड़ी

उड़ीसा

कोलकाता

हुगली नदी

पश्चिम बंगाल

 

वायु परिवहन

भारत में वायु परिवहन की शुरुआत वर्ष 1911 में हुई जब प्रयागराज से नैनी तक वायुयान डाक सेवा प्रदान की गई | वर्ष 1953 में सभी विमान कंपनियों का राष्ट्रीयकरण किया गया |
हवाई अड्डों के प्रबंधन के क्षेत्र में सबसे महत्वपूर्ण निकाय “भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण” है | इसका गठन 1 अप्रैल, 1995 को किया गया था | यह प्राधिकरण देश में स्थित सभी हवाई अड्डों के प्रबंधन के लिए उत्तरदायी हैं | एयर इंडिया को अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों का दायित्व सौंपा गया,जबकि इंडियन एयरलाइंस को अंतर्देशीय तथा पड़ोसी देशों की सेवाओं की जिम्मेदारी सौंपी गई | “पवनहंस हेलीकॉप्टर्स लिमिटेड” तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम, आयल इंडिया लिमिटेड, निजी संस्थानों एवं राज्य सरकारों को हेलीकॉप्टर सेवा प्रदान करता है | पवनहंस वर्तमान में देश के दुर्गम क्षेत्रों( पहाड़ी, पठारी) में भी नियमित विमान सेवाएं उपलब्ध करवाते हैं | “इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी” एक स्वायत्त संस्था है, जो रायबरेली, उत्तर प्रदेश में हैं | इस संस्था का प्रमुख उद्देश्य पायलटों को प्रशिक्षण प्रदान करना है |
तो दोस्तों हमें उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट बहुत ही अच्छी लगी होगी | अगर अच्छी लगी है तो इस अपने मित्रों के साथ शेयर जरूर कीजिए |
 

Share With Friends

Naresh Kumar is Founder & Author Of EXAM TAK. Specialist in GK & Current Issue. Provide Content For All Students & Prepare for UPSC.

Leave a Comment

Home
Telegram
Books
Search