भारत के सभी 46 रामसर स्थल | Ramsar Sites Of India In Hindi with PDF

Share With Friends

नमस्कार दोस्तों आज आपको रामसर स्थल के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं, जिसमें हम आपको रामसर स्थल क्या है ? रामसर संधि के बारे में, इसके महत्व और महत्वपूर्ण तथ्य तथा भारत के सभी रामसर स्थलों की सूची (Ramsar Sites Of India In Hindi) के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं, तो आप इस पूरी पोस्ट को ध्यान से जरूर से पढ़िए |

Ramsar Sites Of India In Hindi
Ramsar Sites Of India In Hindi

रामसर स्थल क्या है (Ramsar Sthal Kya hai ) ?

पृथ्वी पर ऐसे आद्र भूमि के क्षेत्र, जो जैव विविधता के लिए बहुत महत्वपूर्ण है | उन महत्वपूर्ण स्थलों को रामसर संधि के तहत रामसर स्थल के रूप में सूचित किया जाता है, ताकि उनका संरक्षण किया जा सके, जिन्हे रामसर स्थल कहां जाता है | भारत में वर्तमान में 46 रामसर स्थल हैं, जिनकी सूची नीचे दी गई हैं |

क्या है रामसर संधि (Ramsar Sandhi Kya hai)?

2 फरवरी 1971 को ईरान के कैस्पियन सागर के तट पर स्थित रामसर शहर में आद्र भूमि के संरक्षण को लेकर एक संधि हुई थी, जिसे हम रामसर संधि कहते हैं | रामसर संधि का उद्देश्य था कि पृथ्वी पर स्थित आद्र भूमि का संरक्षण किया जाए | यह संधि 1975 से लागू हुई थी |

 

रामसर संधि का महत्व (Ramsar Sandhi Ka Mahatv)

वेटलैंड्स पर कन्वेंशन एक अंतर सरकारी संधि है जो आर्द्रभूमि और उनके संसाधनों के संरक्षण और बुद्धिमान उपयोग के लिए राष्ट्रीय कार्रवाई और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए रूपरेखा प्रदान करती है।

रामसर स्थल से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य

  • भारत में रामसर संधि पर 1 फरवरी 1982 को हस्ताक्षर किए थे |
  • भारत की पहली रामसर स्थल उड़ीसा में स्थित चिल्का झील है |
  • भारत में अब तक कुल 46 स्थानों को रामसर सूची में शामिल किया गया है |
  • भारत में 42वा रामसर स्थल लद्दाख में स्थित त्सो-मोरीरी झील है |
  • वर्तमान में पूरे विश्व में 2429 रामसर स्थल है |
  • विश्व आर्द्रभूमि दिवस प्रत्येक वर्ष 2 फरवरी को मनाया जाता है |
  • दुनिया की पहली रामसर साइट ऑस्ट्रेलिया में स्थित कोबोर्ग प्रायद्वीप थी |

रामसर स्थल का वर्गीकरण

रामसर स्थल को तीन प्रकार से विभाजित किया जाता है-

  • समुद्री तटीय आद्र भूमि
  • अंतर्देशीय आद्र भूमि
  • मानव निर्मित आद्र भूमि

आर्द्रभूमि क्या होती हैं ?

  • नमी या दलदली भूमि वाले क्षेत्र को आर्द्रभूमि या वेटलैंड (Wetland) कहा जाता है। दरअसल, वेटलैंड्स वैसे क्षेत्र हैं जहाँ भरपूर नमी पाई जाती है |
  • आर्द्रभूमि जल को प्रदूषण से मुक्त बनाती है। आर्द्रभूमि वह क्षेत्र है जो वर्ष भर आंशिक रूप से या पूर्णतः जल से भरा रहता है।
  • भारत में आर्द्रभूमि ठंडे और शुष्क इलाकों से लेकर मध्य भारत के कटिबंधीय मानसूनी इलाकों और दक्षिण के नमी वाले इलाकों तक फैली हुई है।

भारत के 46 रामसर स्थल (वेटलैंड्स) | Ramsar Sites Of India In Hindi

राज्य का नामरामसर स्थल
आंध्र प्रदेशकोलेरु झील
असमगहरा बील
गुजरातनलसरोवर पक्षी अभयारण्य, थोल झील अभयारण्य, वाधवाना वेटलैंड
हिमाचल प्रदेशचंदेरटल वेटलैंड, पौंग बांध झील, रेणुका वेटलैंड
जम्मू और कश्मीरहोकेरा वेटलैंड, सूरिंसार-मानसर झीलें, वुलर झील
लद्धाखत्सो-मोरीरी त्सो कर लेक (42th)
केरलअष्टमुडी वेटलैंड, वेम्बनाड-कोल वेटलैंड, सस्थमकोट्टा झील
मध्य प्रदेशभोज वेटलैंड
मणिपुरलोकतक झील
ओडिशाभितरकनिका मैंग्रोव, चिल्का झील
पंजाबहरिके झील, कंजली झील, रोपड़, केशोपुर, मिआनी कम्युनिटी रिजर्व, व्यास संरक्षण रिजर्व, नांगल वन्यजीव अभयारण्य,रूपनगर
राजस्थानसांभर झील, केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान
तमिलनाडुप्वाइंट कैलिमेरे वन्यजीव और पक्षी अभयारण्य
त्रिपुरारुद्रसागर झील
उत्तर प्रदेशऊपरी गंगा नदी ,ब्रजघाट से नरौरा खिंचाव साण्डी पक्षी अभयारण्य ,हरदोई समसपुर पक्षी अभयारण्य,रायबरेली नवाबगंज पक्षी अभयारण्य, उन्नाव समन पक्षी अभयारण्य ,मैनपुरी पार्वती अरगा पक्षी अभयारण्य , गोंडा सरसई नावर झील , इटावा सुर सरोबर(कीठम), आगरा
पश्चिम बंगालपूर्व कलकत्ता वेटलैंड्स, सुंदर वन डेल्टा
महाराष्ट्रनंदूर मधमेश्वर ,नासिक, लोनार झील
उत्तराखंडआसन
बिहारकबरताल
हरियाणासुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान, भिंडावास वन्यजीव अभयारण्य

यह भी जरूर पढ़ें:-

Ramsar Sthal Map In Hindi

नई जोड़ी गई 4 रामसर स्थल

हाल ही में भारत की 4 नई आद्र भूमि स्थलों को रामसर स्थल के रूप में चिन्हित किया है इन चार रामसर स्थलों के साथ भारत में अब कुल 46 रामसर स्थल हो चुके हैं | नई जोड़े गए रामसर स्थल हैं –

  1. थोल झील वन्य जीव अभ्यारण ( गुजरात)
  2. वाधवाना वेटलैंड (गुजरात)
  3. भिंडावास वन्य जीव अभ्यारण (हरियाणा)
  4. सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान (हरियाणा)

भिंडावास वन्य जीव अभ्यारण

भिंडावास वन्य जीव अभ्यारण हरियाणा का सबसे बड़ा आद्रभूमि स्थल है | भिंडावास वन्य जीव अभ्यारण मानव निर्मित मीठे पानी की भूमि है, जहां पर 250 से अधिक पक्षी प्रजातियां पाई जाती हैं |

सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान

हरियाणा में सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान शीतकालीन और स्थानीय पक्षियों के 220 से अधिक का प्राकृतिक आवास स्थल हैं |

थोल झील वन्य जीव अभ्यारण

वन्य जीव अभ्यारण गुजरात में स्थित है | यहां पर 320 से अधिक प्रजातियां तथा 30 से अधिक संकटग्रस्त पक्षी प्रजातियों का आवास स्थल है |

वाधवाना वेटलैंड

वाधवाना वेटलैंड गुजरात में स्थित महत्वपूर्ण है | यह पक्षियों के जीवन के लिए प्रसिद्ध है |

FAQ Related Ramsar Sthal –

रामसर स्थल किसे कहते हैं ?

पृथ्वी पर ऐसे आद्र भूमि के क्षेत्र, जो जैव विविधता के लिए बहुत महत्वपूर्ण है | उन महत्वपूर्ण स्थलों को रामसर संधि के तहत रामसर स्थल के रूप में सूचित किया जाता है, ताकि उनका संरक्षण किया जा सके, जिन्हे रामसर स्थल कहां जाता है |

भारत में रामसर स्थलों की संख्या कितनी है ?

भारत में वर्तमान में कुल 46 रामसर स्थल हैं | हाल ही में चार नई आद्र भूमि स्थलों को रामसर सूची में जोड़ा गया है | इन सभी की पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट में दी गई है |

भारत का पहला रामसर स्थल कौन सा है ?

भारत का पहला रामसर स्थल चिल्का झील हैं, जो कि ओडिशा राज्य में स्थित हैं |

भारत का 42 वा रामसर स्थल कौन सा है ?

हाल ही में लद्दाख में स्थित त्सो-मोरीरी त्सो झील को भारत के 42 वे रामसर स्थल के रूप में सूचित किया गया है | अतः वर्तमान में कुल 46 रामसर स्थल है

भारत में रामसर स्थल कितने हैं ?

वर्तमान में भारत में कुल 46 रामसर स्थल हैं |

दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी है तो इसे अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिए, ताकि हम ऐसी ही जानकारी आप तक पहुंचा पाए | और ज्यादा जानकारी पाने के लिए हमारी टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन कर लीजिए

इसकी PDF डाउनलोड करने के लिए आप नीचे दिए गए PDF वाले बटन पर क्लिक करें |

Read Also these Posts:-


Share With Friends

Naresh Kumar is Founder & Author Of EXAM TAK. Specialist in GK & Current Issue. Provide Content For All Students & Prepare for UPSC.

2 thoughts on “भारत के सभी 46 रामसर स्थल | Ramsar Sites Of India In Hindi with PDF”

Leave a Comment

Home
Telegram
Books
Search